जीवन के नायाब अनुभव .....

Bike Trip To Leh Ladakh | लेह लद्दाख़ यात्रा - 22 सितम्बर - चंडीगढ़ से जयपुर

No comments

लेह लद्दाख़ यात्रा 2017 - 22 सितम्बर - चंडीगढ़ से जयपुर

आखिरकार हमारी यात्रा का आखिरी दिन आ गया l सुबह लगभग साढ़े छ बजे  उठे, चाय पी और नहाये-धोये l  हमे आज चंडीगढ़ से जयपुर पहुँचना था जो की लगभग 550 किलोमीटर था l जब 9 सितम्बर को हमारी लेह यात्रा शुरू हुई थी तब उस दिन भी हम जयपुर से चंडीगढ़ आये थे l सारा रास्ता देखा हुआ था और असल मे हमारी इस पूरी लेह यात्रा मे जयपुर से चंडीगढ़ का मार्ग ही एक ऐसा मार्ग था जिस पर हम दुबारा सफ़र कर रहे थे इसीलिए आज के सफ़र को ले कर दिल मे कोई खास उत्साह नही था l इसी के साथ साथ यात्रा और छुट्टियां ख़त्म होने का मलाल भी दिल मे था l दिमाग मे आया कि जयपुर पहुँच कर जिन्दगी वही पुराने ढर्रे पर आ जाएगी, घर से ऑफिस और ऑफिस से घर l

हमारी इस लेह लद्दाख़ यात्रा को आरम्भ से पढने के लिए  यहाँ क्लिक करें  

कल हम डीकैथलन गए थे और वहाँ से खरीदारी भी कर लाये थे इसीलिए हमारे पास सामान अब पहले से ज्यादा था l सारा सामान अच्छी तरह करीने से जमाया और बाइक पर बाँधा l सुबह लगभग नौ बजे हम जयपुर के लिए निकल गए l लगभग दो घंटे लगातार चलाने के बाद सुबह ग्यारह बजे के आस पास हमे भूख लगने लगी क्योंकि हम चंडीगढ़ से सिर्फ चाय ही पी कर निकले थे l हाईवे पर ही हमे एक बहुत अच्छा ढाबा दिखा, इसका नाम था सांझा-चूल्हा l ये ढ़ाबा काफी बड़ा और पंजाब की संस्कृति मे रचा-बसा हुआ था l देसी होने के साथ साथ इसमें आधुनिकता का मिश्रण भी था l यहाँ हमने नाश्ता किया और कुछ देर सुस्ताने के बाद आगे रवाना हो गए l

कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत होते हुए रोहतक पहुँच गए l रास्ते मे जैसे ही हमे थकान महसूस होती हम 15-20 मिनट का चाय-पानी का ब्रेक ले लेते l एक टोल से निकल कर जब मैं आगे पहुँचा तो कुछ देर तक मुझे विक्रांत और सत्या नही दिखे l मैं मेरी बाइक रोक कर सड़क के किनारे खड़ा हो गया और दोनों का इन्तिज़ार करने लगा l कुछ ही देर मे मुझे विक्रांत और सत्या आते हुए दिखाई दिए l विक्रांत ने बताया की दो लड़के जिनकी उम्र 14-15 के आस पास होगी उन्होंने टोल से जल्दी निकलने के चक्कर मे विक्रांत की बाइक के टक्कर मार दी थी l सामान बहुत ज्यादा होने की वजह से विक्रांत का संतुलन बिगड़ गया और वो नीचे गिर गया l ये शुक्र था की विक्रांत पूर्ण रूप से ठीक था, उसे कोई भी चोट नहीं लगी थी क्योंकि विक्रांत पुरे बाइकिंग गियर्स मे था l विक्रांत की जैकेट और पैरों के गार्ड की वजह से विक्रांत के चोट नहीं लगी थी l बाइक के थोडा सा नुकसान हुआ था पर वो कुछ ख़ास नही था l    
  
इस घटना के बाद हम आगे बढे और झज्जर पहुँच गए l हमने सोचा था की खाना तो आज जयपुर ही जा कर खा लेंगे पर झज्जर से थोडा आगे निकल कर हमे भूख सी लगने लग गयी l इस इलाके मे बहुत ज्यादा अच्छे ढ़ाबे नही है इसीलिए हम ठीक-ठाक से ढ़ाबे की तलाश मे आगे बढ़ते रहे l कुछ देर बाद हमे एक अच्छा सा ढ़ाबा दिखाई दिया तो हम वहाँ दोपहर के खाने के लिए रुक गए l खाने मे हमने आलू-गोभी, दाल, रायता और तंदूरी रोटी ली l तंदूरी रोटी बहुत ही अच्छी और खस्ता थी, पूछने पर ढ़ाबे वाले ने बताया की हम पैकेट वाले आटे की जगह खुद के अनाज का उपयोग करते है और आटा भी खुद ही पिसवाते है l

कुछ ही देर मे हम सब दुबारा सड़क पर थे l खाने खाने के बाद हम ने रफ़्तार बढ़ा दी और और जल्द ही हम NH8 पर आ गए l शाहपुरा पहुँच कर होटल हाईवे किंग देखा तो सोचा चलो इस यात्रा की आखिरी चाय साथ साथ पी चलते है l यहाँ हमने चाय पी, चिप्स और कुरकुरे खाए l चाय पी कर निकले और शाम के करीब छ बजे के आस पास हम जयपुर पहुँच गए l जयपुर पहुँच कर हम सीधे मोती डूंगरी स्तिथ गणेश मंदिर गए और भगवान् गणेश को हमारी यात्रा के सकुशल पूर्ण होने पर धन्वाद दिया l मंदिर के बाहर हम तीनों के बिछुड़ने का वक़्त आ गया था l पिछले 14-15 दिनों से हम तीनों एक परिवार की तरह साथ थे और एक दुसरे के सुख दुख के साथी थे l इतनी लंबी और बड़ी यात्रा के बाद हमे हमारे परिवार से मिलने की ख़ुशी तो यक़ीनन थी पर दिल मे कहीं न कहीं एक दुसरे के साथ बिताये पलों की यादें भी थी l एक दुसरे का अभिवादन और गले मिल कर हम अपने अपने घरों को निकल गए और इस तरह हमारी इस अभूतपूर्व और कभी ना भूलने वाली लगभग 3600 किलोमीटर की यात्रा का पदार्पण हुआ l

लेह लद्दाख़ यात्रा का सम्पूर्ण वृतांत
1.   लेह लद्दाख़ यात्रा - प्रस्तावना
2.   लेह लद्दाख़ यात्रा - जयपुर से चंडीगढ़
3.   लेह लद्दाख़ यात्रा - चंडीगढ़ से मनाली
4.   लेह लद्दाख़ यात्रा - मनाली से केलोंग
5.   लेह लद्दाख़ यात्रा - केलोंग से पांग
6.   लेह लद्दाख़ यात्रा - पांग से लेह
7.   लेह लद्दाख़ यात्रा - लेह, संगम, गुरुद्वारा श्री पत्थर साहिब और मेग्नेटिक हिल
8.   लेह लद्दाख़ यात्रा - लेह से पंगोंग लेक
9.   लेह लद्दाख़ यात्रा - पंगोंग लेक से नुब्रा वैली
10. लेह लद्दाख़ यात्रा - नुब्रा वैली से लेह वाया खारदुन्गला पास
11. लेह लद्दाख़ यात्रा - लेह शहर
12. लेह लद्दाख़ यात्रा - लेह से सोनमर्ग
13. लेह लद्दाख़ यात्रा - सोनमर्ग से जम्मू
14. लेह लद्दाख़ यात्रा - जम्मू से चंडीगढ़
15. लेह लद्दाख़ यात्रा - चंडीगढ़ से जयपुर

No comments :

Post a comment

Popular Posts