नायाब लफ्ज़

जीवन के नायाब अनुभव .....

Bike Trip To Leh Ladakh | लेह लद्दाख़ यात्रा - 9 सितम्बर - जयपुर से चंडीगढ़

No comments

लेह लद्दाख़ यात्रा 2017 - 9 सितम्बर - जयपुर से चंडीगढ़

सुबह तैयार हो कर, बाइक पर सारा सामान बाँध कर मैं करीब प्रातकाल 6:20 पर मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर पहुँचा तो मैंने देखा की सत्या पहले से ही वहाँ आ चूका था l शायद उसको घर छोड़ने की बहुत जल्दी थी पर विक्रांत अभी तक नही पहुँचा था l हम दोनों हमारी बाइक पर सामान सही तरह से बाँधने मे लग गए क्योंकि इस मामले मे हम थोड़े से कम अनुभवी थे l कुछ ही देर मे विक्रांत भी आ गया, वो रास्ते मे पेट्रोल भरवाने रुक गया था l हम तीनों ने एक बार फिर सामान सही तरह से बाँधने मे एक दुसरे की मदद की l कुछ लोग हमारे पास आये, हमारी यात्रा के बारे मे पूछा और हमारी यात्रा के लिए शुभकामनाये भी दी l हमने भगवान गणेश से अपनी यात्रा अच्छी होने की प्रार्थना की, कुछ फ़ोटोज़ लिए और यात्रा आरम्भ की l जब भी किसी महत्वपूर्ण यात्रा को आरम्भ करते है तो ये पल बहुत विशेष लगता है क्योंकि इस पल आपका उत्साह चरम पर होता है l हमे मोती डूंगरी से राजा पार्क होते हुए ट्रांसपोर्ट नगर से दिल्ली रोड पर जाना था परन्तु जैसे ही हम दिल्ली रोड पहुँचे, वहाँ पर बड़ी संख्या मे पुलिस बल तैनात था और पुलिस ने हमे आगे जाने से रोक दिया l दिल्ली रोड पर आगे सांप्रदायिक तनाव के चलते कर्फ्यू लगा दिया गया था l

No comments :

Post a comment

Bike Trip To Leh Ladakh | लेह लद्दाख़ यात्रा 2017 - प्रस्तावना

No comments

कई बार हम हमारे जीवन मे कुछ निर्णय अनायास ही ले लेते है जिसका कि हमारे जीवन के ऊपर बहुत प्रभाव पड़ता है, ऐसा ही एक निर्णय था हमारी “लेह-लद्दाख़की बाइक यात्रा का l इस यात्रा को बहुत कठिन और रोमांचक माना जाता है और जब इंसान कोई भी कठिन काम करता है तो उसका कठिनाइयों से जूझने का स्तर अपने आप बढ़ जाता है l अगली बार उस इंसान मे इससे भी ज्यादा कठिन काम करने का विश्वास पैदा हो जाता है और यही कारण है की इंसान हर कठिनाई पर विजय प्राप्त करता है l हमारे ऊपर भी इस अभूतपूर्व और रोमांचक यात्रा का प्रभाव पड़ना लाज़िमी था l

No comments :

Post a comment

Popular Posts